Tuesday, July 31, 2018

स्वामी गंगा नंद जी महाराज

धन धन स्वामी गंगा नंद जी महाराज जी का जन्म जिला होशियारपुर, पंजाब में गांव रत्तेवाल में पिता ईश्वरदास माता श्रीमती गंगा देवी जी की सुभागी कोख से 11 मई 1922 वैशाख की पूर्णिमा को हुआ।

आपने आठवीं कक्षा तक विद्या ग्रहण की। संत महापुरुषों के सानिध्य में रहकर आप आध्यात्मिक विद्या चाहते थे इसलिए स्कूल छोड़ दिया । हमारी गरीबदासीय सम्प्रदाय के त्यागमूर्ति तपोनिष्ठ संत धन धन सतगुरु ब्रह्मसागर जी महाराज भूरीवालों के शिष्य स्वामी लालदास जी महाराज से सन्यास लेने के बाद आप जी ने संत बाबा मेहर सिंह जी राजगढ़ वालों से अनुभवी विद्या प्राप्त की। धन से निर्लेप रहते संसारी जिज्ञासुओं को नाम वाणी की खुली दांत बांटते, आत्मिक उन्नति के रास्ते पर चलने की शिक्षा देते जीवन को सर्वोच्च बनाने के लिए कहते सतगुरु गंगा नंद जी महाराज। गरीबदास जी की वाणी का बेअंत प्रचार प्रसार करते थे। स्वामी गंगा नंद जी श्री छुड़ानी धाम की बहुत सेवा करवाई क्योंकि सतगुरु ब्रह्मसागर जी महाराज भूरीवालों का यही कहना था कि जो हमारा सच्चा सेवक है वह सबसे पहले श्री छुड़ानी धाम की सेवा करें क्योंकि वह परमधाम है। स्वामी जी ने अनेकों कुटियाओ का निर्माण करवाया संगत को नाम दान बांटा। बंदीछोड़ गरीबदास साहिब जी की वाणी से लोगो को जोड़कर शराब, भांग, तंबाकू से मुक्ति दिलाई। आप जी बेशुमार ज्ञान बांट कर कृष्ण अष्टमी जन्म 19 अगस्त 1984 को अपना पंच भौतिक शरीर त्याग कर सद्गुरु जी के नूर में लीन हो गए क्योंकि यह वही शुभ दिन था जिस दिन सद्गुरु ब्रह्मसागर जी महाराज भूरीवालों का जन्म हुआ था।

No comments:

Post a Comment